आमदनी अठन्नी और भ्रष्टाचार!

India Today Media Institute
लेखिका   : तनप्रीत मदान
 संपादक  : अनुराग शर्मा
आज के समय की अगर हम बात करे तो भ्रष्टाचार जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में फैल चुका है। इसका क्षेत्र, समाज में इस तरह फैलता जा रहा है कि इससे बच पाने की दूर -दूर तक कोई गुंजाइश नही दिख रही है। भ्रष्टाचार से  समाज के नैतिक मूल्य भी नष्ट हो गयें हैं ।
India Today Media Institute
Corruption in India. Courtesy : Economist
भ्रष्टाचार दो शब्दों को जोड़ कर बना है – “भ्रष्ट”+”आचार”= भ्रष्टाचार, अर्थात ऐसा व्यवहार जो भ्रष्ट हो और समाज के लिए नुकसानदेह हो। भ्रष्टाचार से मानव में लोभ व स्वार्थ उत्त्पन्न हो चुका है।  इंसान बिना कोई कर्म किये भी वह आंनद पाना चाहता है जिसका वह हकदार भी नही है। धन की लालसा उन्हें भ्रष्ट होने पर मजबूर कर देती है, जिससे वह अनुचित कार्य करने पर मजबूर हो जाते हैं । आज मनुष्य अपनी नींद खोता है परंतु कुछ पाता नहीं । लालच भाव अत्यधिक होने के कारण उचित -अनुचित के बीच का फैसला करने की शक्ति से भी मनुष्य भ्रष्ट होता दिखाई दे रहा है। “काम का आलस और पैसों का लालच”, इंसान को महान बनने से वंचित रख रहा है। बस यही कारण है की जो अमीर हैं वो और अमीर होते जा रहे हैं, और गरीब की स्थिति का अंदाज़ा लगा पाना भी संभव नही है।
India Today Media Institute
Corruption in India. Courtesy : Go a Prism
भारत राष्ट्र की स्थिति भी यही है जहाँ भ्रष्टाचार पर वार किया नही जा सकता और ऐसे में देश से प्यार किया नही जा रहा। भ्रष्टाचार का क्या ही कहना, आजकल तो मनुष्य की नीयत में तक भ्रष्टाचार देखने को मिल रहा है, अगर सपने भी देखने हैं तो सोच भी उधार लेनी पड़ रही है। बात करें अगर हम ऐसे ही साधारण से उदाहरणों की तो अगर एक ड्राइविंग लाइसेंस भी बनवाना होता है तो पहले  सरकारी अफसरों की जेबें गरम करनी पड़ती है। किसी मरीज को अगर आपातकालीन और नाजुक स्थिति में अस्पताल भी लाया जाता है तो डॉक्टरों और नर्सों की नज़र उसकी हालत पे नहीं बल्कि उसके साथ आए व्यक्ति की जेब पर होती है कि कहीं वह खाली जेब तो नही आ गया क्योंकि नोटों की गिनती के साथ -साथ ही डॉक्टर अपने कदम आगे के कार्यवाही के लिए बढ़ाते हैं।
India Today Media Institute
A. Raja. was caught in 2G Scam and found guilty. Courtesy : In today
देश के आर्थिक हालातों पे भी अगर भ्रष्टाचार का असर मांपे तो २जी घोटाला, सीडब्लूजी घोटाला, कोयला घोटाला जैसे अनेक घोटालों से यह साफ़ रूप में देखा जा सकता है।
India Today Media Institute
Suresh Kalmadi was caught and found guilty in CWG Scam. Courtesy : Jagran
 भारत गणराज्य के पूर्व राष्ट्रपति व् वैज्ञानिक स्वर्गीय डॉ• अब्दुल कलाम का कहना था कि – “किसी देश को भ्रष्टाचार मुक्त और सुंदर विचारों वाले नागरिकों का देश केवल तीन ही व्यक्ति बना सकते हैं -माता, पिता और शिक्षक”। क्योंकि यह वह तीन लोग हैं जिन्हें भ्रष्ट की परिभाषा नही आती। तो अगर भ्रष्टाचार को है मिटाना तो लालसा, स्वार्थ व अनुकूल व्यवहार को है दूर भगाना।